No Widgets found in the Sidebar
New Poetry of Muhammad Asif Ali

Today, You can read here the best and new poetry and Shayari written by Muhammad Asif Ali. Youtreex also provides you with unique Hindi poetry and poems. You can leave a comment to share your prose work or lines if you can join our platform(Youtreex). Here everyone can contribute as a poet and writes her own content.

चराग़ तो सभी जल रहे हैं

नज़्म लिखू मगर किस पर
चराग़ तो सभी जल रहे हैं
चैन से गुज़र रही है ज़िन्दगी
ख़्वाब भी अच्छे पल रहे हैं
नज़्म लिखूं मगर किस पर
चराग़ तो सभी जल रहे हैं
दुनिया में कोई गम नहीं
हम भी खुशियों में ढल रहे हैं
नज़्म लिखूं मगर किस पर
चराग़ तो सभी जल रहे हैं
हाथों ने कलम भी ठीक पकड़ी है
पाँव भी अच्छे चल रहे हैं।
नज़्म लिखूं मगर किस पर
चराग़ तो सभी जल रहे हैं
जवानी में दम में मौज़ूद है
और बुढ़ापे में भी ढल रहे हैं।

भूल गए हम लहू बहाने वालों को

किसी ने घर छोड़ा किसी ने नौकरी छोड़ दी
इंसाफ़ के लिए लड़कर कितनों ने कमर तोड़ ली
वो बता रहे हैं जिसे भीख में मिली आज़ादी
उस भीख़ ने हमसे हमारी गुलामी छीन ली
नफरत करो मगर नफरत करने वालों से
उनको सजा क्या मिले जिन्होंने माफ़ी ही मांग ली
नंगे हैं ख़ुद मगर बच्चों को कपड़े पहनाएंगे
लाठी लेकर बापू ने मगर दिल में यूँ ठान ली
कौन कहाँ से आ जाता था कितना लहू बहा जाता था
बदल दिया इतिहास और हमने भी इनकी मान ली।

लड़ो दुश्मन से

लड़ो दुश्मन से अगर जान बाकी है
तोड़ो पहाड़ अगर अरमान बाकी है
तुम्हारी मेहनत भी कभी रंग लाएगी
अरे तुम्हारी किस्मत भी इतिहास बनाएगी
जो पहले थे वो भी इंसान थे
खुद से डरने वाले बताओ कब महान थे
ये बीती ज़िन्दगी एक दिन याद आएगी
गुज़री हुई बात फिर तुमको रुलाएगी
अभी कर लो शुरू अगर आगे बढ़ना है
इस छोटी ज़िन्दगी में अगर कुछ करना है
चलो आओ अभी कुछ काम बाकी है
दुनिया में बनाना अभी नाम बाकी है।

तन्हा ज़िन्दगी

चिराग़ बुझ जाया करते हैं आधियों में
तूफ़ानों मे अक्सर उजाला नही होता
यूं तो झोपड़ियां भी महकती हैं ईमान से
बेईमान का बिल्डिंगों में भी गुज़ारा नहीं होता
हवाएं चलती हैं तो पेड़ों को सहना पड़ता है
डालियां टूट जाती हैं मगर घोंसला नही बिगड़ता

✍️ Muhammad Asif Ali

Urdu Ghazal and Poetry in Hindi read here.

Hindi Shayari

कमीं खलती है तेरी हर एक कमीं के बाद
हम ही तुझको याद करते हैं हमीं के बाद
आबरू औरत की हो इतनी तो सदा
मर्द हो जाए फ़िदा देखकर उसकी अदा
बज़्म हो तो ग़ालिब ही लिख देते हैं उस पर शेर
अब आसिफ़ को भी मिल जाए लिखने की वजह
– मुहम्मद आसिफ अली
Read Love Shayari on Youtreex.
————————————-

कौन कहता है अब बात नहीं होती
मिलते हैं रोज़ यहाँ मुलाक़ात नहीं होती
हजारों अश्क़ में डूबे दामन फिरते हैं
एक महबूब की बिन महबूब के रात नहीं होती

 

ज़मीं को फुर्सत कहाँ किसी से बात करने की
एक आस्मां हैं सदा बतियाता रहता है
सफ़र से साथ जिंदगी भी नया मोड़ लेती है
एक शायर है यहाँ जो गाता रहता है

Poet Muhammad Asif Ali All Poetries

एक रोज़ ख़ाक में मिल जाएंगे
ज़ुल्म करने वाले सब कुछ भूल जाएंगे
तू तस्वीर वक़्त की उठाकर तो देख
ये आईने नफरतों के भागे नज़र आएंगें।

Official Author Links-

साहित्य कुंज
Kavishala
Amar Ujala Kavya
Twitter Handle
Instagram Page
Facebook Page
SahityaPedia Hindi

ये क़त्लेआम का सिलसिला जारी रहेगा
इसका कायदा कानून भी भारी रहेगा
तुम उसे जलाओगे वो तुम्हे दफ़नाएगा
और परंपरा, जो आएगा आगे बढ़ाएगा

उर्दू से लिखी शायरियां
हिंदी में लिखे गीत
ज़ुबां की दोनों बोली हैं
भारत की हैं रीत।

 

18 thoughts on “Muhammad Asif Ali Hindi Poems”
  1. Enjoyed reading the poetry of Muhammad Asif Ali Ji. I am crazy about poets like you. I really like the poems written by you guys. Thanks, Youtreex for this post. Your heart-touching fan Ayaan saifi

  2. वाक़ई में मुहम्मद आसिफ अली तुम बहुत अच्छी पोएट्री लिखते हो ये काबिले तारीफ है। शुक्रिया एक बेहतरीन पेशकश के लिए।

  3. मुहम्मद आसिफ अली आप कमाल के लेखक है और काफी अच्छा लिखते हैं। आज मेरा कविताएं पढ़ने का मन हुआ तो मैंने सोचा यूट्रीक्स पर चलते हैं। यहाँ आया तो देखा कि अब कहीं जाने की जरूरत नहीं है। थोड़ी बहुत शायरी हम भी लिख लेते हैं।

  4. मेरे दोस्त रिज़वान अहमद ने मुझे इस वेबसाइट पर आकर आपकी शायरी पढ़ने की हिदायत दी तो मैने यहाँ आकर आपकी लिखी शायरी पढ़ी। मुहम्मद आसिफ अली अपने बेहद ही अच्छा लिखा है शुक्रिया।

  5. मोहम्मद आसिफ अली आपका बहुत बहुत शुक्रिया। ये वाक़ई बहुत कमाल की शायरियां है जिन्होंने मेरा दिल गुले-गुलज़ार कर दिया। मुझे आपसे बस इतना कहना है कि आप आगे भी इसी तरह लोगों को उर्दू शायरी से वाकिफ़ करवाते रहना।

  6. Thank You, Muhammad Asif Ali to make a Youtreex Foundation(A poetry Platform) for young poets and authors. My name is Faizan Ansari from Gurugram, Hariyana. I am fond of writing poems in Hindi, your platform has helped me a lot, I have also published my poems. The more you thank, the less it is. Give me a chance to talk to you one more time

  7. Waah, It’s really nice Shayari of Muhammad Asif Ali, Thanks for sharing this awesome poetry in Hindi. I like all.

  8. I am Aman Musafir from Bareilly, Uttar Pradesh. I am a poet and Student of Hindi Literature. I want to say you: Fantastic Content Muhammad Asif Ali, You are the great Indian Poet of the 21st century.

  9. Do you have Asif’s name Shayari on this site; I also am a blogger, and I was wondering about your situation; we have developed some nice procedures and we are looking to trade techniques with others, please shoot me an email if interested.

Leave a Reply

Your email address will not be published.