Muharram Shayari and Imam Hussain Quotes in Hindi

Read the best Shan E Hussain Shayari and Imam Hussain Quotes in Hindi with unique words. We also write 10 poetry of Islamic month Muharram in Urdu to know the Karbala matter of Hazrat Imam Hussain Ibn Ali.

Imam Hussain Quotes in Hindi

गुरूर था यज़ीद को तख़्त-ओ-ताज का
चाहता है हुसैन से अपनी बैयत कराना
ख़ून बहता रहा कर्बला की ज़मीं पर
आज भी संभव नहीं मुसलमां को हराना।

सजदे होते रहे सर कटते रहे
जमीं कर्बला की तड़पती रही
लहू बहता रहा इस्लाम का मगर
बिन सब्र के कोई दोपहर गुज़ारी गई।

Shayari on Hussain

सजदों में इबादत में उनका ही तो शोर है
आज तो इस्लाम है उनका ही तो जोर है
क़यामत तक या हुसैन तुमको याद करेंगे
क़र्बला में आज भी आपका ही शोर है।

रहेगी जिंदगी और इस्लाम भी बाकी रहेगा
यज़ीद मिटा था मिटा है और मिटता रहेगा

ईमान हुसैन के बारे में चंद शब्द

मुहर्रम इस्लामी साल का पहला महीना है इस महीने की दसवीं तारीख़ को मज़हब-ए-इस्लाम को मानने वाले और मुस्तफ़ा के उम्मती हुसैन इब्ने अली की याद के रूप में मनाते हैं। नबी-ए-पाक मुहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम में अपनी नुबूवत का ऐलान किया और सऊदी अरब के मक्क़ा शहर में इस्लाम इस्लाम की तब्लीग़ शुरू की। क़र्बला का वाक़्या इससे बहुत बाद का है मुहर्रम महीने में हज़रत हुसैन ने कर्बला की जमीं पर इस्लाम को बचाने के लिए अपनी शहादत दे दी मगर इस्लाम आज भी ज़िंदा है और कल क़यामत तक जिन्दा रहेगा। ईद उल अज़हा के बारे में भी यहाँ पर पढ़ें

Imam Hussain Shayari

हैरत में चाँद सितारे आज भी है
बहत्तर हजारों में ज़िंदा आज भी हैं
हमारे घर में चमकते है इस्लाम के चेहरे
हुसैन तुम्हारे दीन के पहरे आज भी हैं।

ज़िंदा रहेगी मुहब्बत हुसैन की
पढ़ते रहेंगे हम भी बाते हुसैन की
ख़्वाब में या मुस्तफ़ा आप आते हो
जाया कभी गई कभी शहादत हुसैन की

Shan E Hussain Shayari

लहू बहता था मगर शिकवा नहीं था
या ख़ुदा फिर ज़माने को कोई हुसैन दे

तन्हा मकां सूखी रेत क़र्बला की ज़मीं
सजदा आज भी हुसैन का याद आता है

Imam Hussain Poetry in Urdu Sms

नाना ने लगाकर गले एक राज़ बता दिया
नवासे से फिर दीनियल इस्लाम बचा लिया

मुस्तफ़ा से सीखी अदा करबला में काम आ गई
इबादत भी होती रही रहमत भी छा गई

Imam Hussain Ki Shaan Mein Shayari in Hindi

फिर या ख़ुदा हाथ में हुसैनी ख़ंजर हो
फिर कहीं यज़ीद हो करबला का मंज़र हो

सर कटते रहेंगे इस्लाम न झुकने पाएगा
करेंगे सजदा रेत पर फ़रमान-ए-मुस्तफ़ा हमको यही बताएगा
या खुदा मिटते रहेंगे यजीद जो भी आते रहेंगे
तू मुस्तफ़ा की उम्मत में हुसैनी बनाते रहना

Emotional Imam Hussain Quotes in Hindi

वो मरते हैं मगर झुकते नहीं यज़ीद के आगे
हाँ वही हैं हाँ वही हैं काफ़िले में करबला वाले
मुस्तफ़ा से किया है वादा अब निभाकर जाएंगें
फिर करबला सजाते हैं फ़रिश्ते सजाने वाले

ख़ूब ज़माने को लगी फ़ितरत रसूलल्लाह की
फैली यहाँ करबला में उम्मत रसूलल्लाह की
ख़ंजर लगा है सीने में फिर भी मज़ा है जीने में
72 से चली आगे बढ़ी ज़मात रसूलल्लाह की

Read here the best quotes of Ramzan in the Hindi language.

चर्चा नहीं मिटेगा मिट जाएगी दुनिया
दीन-ए-मुहम्मदी बरसता ही रहेगा

आज भी इस्लाम में कर्बला की तारीख याद आती है और ता-क़यामत तक याद रखी जाएगी। या हुसैन के नारे लगे थे लगे हैं और लगते रहेंगे। शायर-ए-इस्लाम का लिखा हुआ ये सलाम “करबला तेरी किस्मत पे लाखों सलाम उन बहत्तर शहीदों पे लाखों सलाम” हमारे दिलों को छूता रहेगा और हमें कर्बला के दर्दनाक मंज़र में इमाम हुसैन के सब्र की याद हमें हमेशा दिलाता रहेगा। हमारा पैग़ाम है कि आप सभी नबी-ए-करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की प्यारी प्यारी सुन्नतों पर अमल करके इस पाक दिन पर अपने घरों में कलाम-ए-पाक पढ़वाइए और महफिले मिलाद शरीफ़ कराइये। याद रखिये कि अगर नबी की सुन्नतों से हम भटक गए तो फिर करबला के बहत्तर शहीदों की याद से भी ग़ाफ़िल हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.