हिंदी में शहर और गांव के कुत्ते की कहानी

स्वागत है आपका हमारी कहानी पर जिसका नाम हमने “कुत्ते की कहानी” दिया है और इसी तरह की हिंदी कहानियां और बच्चों की कहानियां पढ़ने के लिए हमारे वेब पेज को फॉलो करें। इस हिंदी कहानी में हमने बताया कि कैसे शहर और गांव के कुत्तों का जीवन वहां रहने वाले इंसानों पर निर्भर करता है।

Lalchi Kutta Story in Hindi

एक बार की बात है। एक गांव में कुत्तों का झुण्ड रहता था और वहीं पास के शहर में शहरी कुत्तों का काफिला भी रहता था वो दोनों झुण्ड आपस में गहरी मित्रता रखते थे। गांव के लोग उन्हें आते जाते टुकड़ा या रोटी आदि डाल दिया करते थे। शहर के कुत्ते अक्सर कचरे के डिब्बे से भोजन और गंदे नाले से पानी बगैरह पी लेते थे।

एक दिन की बात है गांव के कुत्तों का सरदार जिसका नाम हीरा था शहर के कुत्तों की दावत करने का सोचकर शहर चल पड़ा शहर में पहुँचते ही शहरी कुत्तों के सरदार टॉमी ने उसका स्वागत किया। वह बोला और बताओ दोस्त कैसे आना हुआ। हीरा बोला मैं आपकी दावत करने आया हूँ आप न्योता स्वीकार करें। यह सुनकर टॉमी ने कहा कि पहले मैं आपसे मेहमान नवाज़ी देखने का दिखाने का मौका चाहता हूँ आप कर सुबह अपने सभी दोस्तों के साथ हमारे यहाँ दावत पर आइये।

आप इस दो कुत्ते की कहानी की कहानी यूट्रीक्स वेबसाइट पर पढ़ रहे हैं

हीरा ने खबर अपने दोस्तों को बताई और अगले दिन वह दावत पर पहुँच गए टॉमी और उसके दोस्तों ने उन सभी का जोरदार स्वागत किया और उनका हालचाल पूछा। टॉमी गैंग ने उन्हें नाश्ता कराने के लिए कचरे के ढेर पर लेकर चल दिए। वहां जाकर उन्होंने सड़े हुए भोजन और गले हुए ड्राई फ़ूड से नाश्ता किया और उसके बाद भोजन भी कर लिया। अब उन्होंने कहा कि भाई अगर पानी की प्यास लगी है क्या थोड़ा पानी मिल सकता है। इस पर टॉमी और बाकी कुत्ते उन्हें नाले के पास ले गए और कहा कि भाई देखो यह फ़िल्टर का पानी आ रहा है खूब मजे से पियो और किसी चीज की जरूरत हो तो बताओ। यह सुनकर हीरा बोला टॉमी यार आप कल हमारा न्योता स्वीकार करें।

हिंदी में शहर और गांव के कुत्ते की कहानी
कुत्ते की कहानी

टॉमी ने हीरा की बात सुनकर हाँ में सर हिलाया और कहाँ ठीक है हीरा भाई मैं और मेरे दोस्त आपके गांव दावत खाने जरूर आएंगे और हूँ कल सुबह होते ही यहाँ से निकल पड़ेंगे। इस घटना के बाद गांव वाला झुण्ड अपने घर की और टॉमी से अलविदा कहकर चल देते हैं अगले दिन टॉमी और उसके साथी गांव में हीरा के यहाँ पहुँच जाते हैं। हीरा और अन्य कुत्ते उसका जोरदार स्वागत करते हैं। हीरा बोला आपको भूख लगी होगी चलो कुछ खा लिया जाए।

यह कहकर वह उन्हें वहां लेकर पहुँच गया जहाँ गांव के लोग भूखे के लिए खाना रख देते हैं। यह देखकर टॉमी और बाकी शहरी कुत्तों का ख़ुशी से ठिकाना न रहा। और वह उस खाने पर टूट ही पढ़ते मगर वह शर्म से कुछ न कर सके। इसको देखकर गांव के एक कुत्ते ने कहा कि आप यहाँ अपना भरपूर तरीके से पेट भर सकते हैं यह आपके लिए और अन्य जरूतमंद के लिए ही है।

आप यहाँ लालची कुत्ते की कहानी की कहानी भी पढ़ सकते हो

खाने खाने के बाद हीरा और उसके साथी उन्हें नदी में लेकर पहुंचे जहाँ बिलकुल साफ़ पानी था। वहां जाकर हीरा ने कहा कि टॉमी भाई यह फ़िल्टर का पानी तो नहीं है मगर हमें यही पानी साफ़ लगता है आपके फ़िल्टर के पानी से। इतना सुनकर शहर के कुत्तों ने सर नीचे कर लिया। टॉमी बोला भाई यह पानी तो बिलकुल साफ़ है हमारे यहाँ अगर ऐसा पानी होता तो हम तो बाद में पहले इंसान ही इस पानी को नहीं छोड़ते।

और कहाँ गांव की जिंदगी शहर के कई ज्यादा बेहतर है हमें गर्व है कि आप और आपके साथी हमारे दोस्त हैं जिनकी वजह से हमें स्वछता का ज्ञान हो पाया। यह सुनकर हीरा बोला यार तुम भी यहीं क्यों नहीं रह लेते यहाँ का हवा में काफी शुद्धता है जो आपको कुछ दिनों में और पसंद आने लगेगी। यह सुनकर शहर के कुत्तों ने वापस जाने का प्लान बदल दिया। और अब वह गांव में ही रहने लगे।

Read more stories of dogs in the Hindi language. Best Story of Indian pariah dog for you and your entertainment.

Leave a Reply

Your email address will not be published.